month vise

Wednesday, August 2, 2017

तुम्हारा काव्य सुन्दर है ,सभी सम्भाव्य सुन्दर है

poem by Umesh chandra srivastava 

                                 (१)
तुम्हारा काव्य सुन्दर है ,सभी सम्भाव्य सुन्दर है ,
मनुजता के चितेरक तुम ,तुम्हारा राग सुन्दर है। 
कोई पढ़ ले सहजता से , तुम्हारी लेखनी सुन्दर ,
महाकवि तुम उपासक हो , तेरा अनुराग सुन्दर है। 
                                 (२)
हरण जब सीय का होता , तभी सब राम रोते हैं। 
हरण जब चीर का होता ,तभी घनश्याम होते हैं। 
कहो फिर क्या मिलेंगे ,राम 'औ' घनश्याम दोनों अब ,
मिलेंगे धूर्त , भोगी लोग ,अब अविराम रोते हैं। 




उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 

No comments:

Post a Comment

दीप का पर्व सबको , मुबारक यहाँ।

poem by Umesh chandra srivastava  दीप का पर्व सबको , मुबारक यहाँ।  सत्य की ज्योति , हरदम ही जलती रहे।  सत्य ही है वही , सबका...