month vise

Thursday, August 10, 2017

बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी

poem by  Umesh chandra srivastava 
 
बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी ,
धरा का अँधेरा सभी मिट ही जाए। 
वो फूलों की बातें , निगाहों की शोखी ,
मगन हो सजन के लिए लिख रहे हो। 

तो छोड़ो बताऊं लिखो तुम वतन पे ,
जो सैनिक खड़े हैं वहां सीना तने। 
मग्न होके उनका ही धीरज बढ़ाओ ,
वतन के लिए जो ,वतन के हैं प्रेमी।   (क्रमशः  कल )





उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by  Umesh chandra srivastava 

No comments:

Post a Comment

जो गया सब उसके ही खातिर

A poem of Umesh chandra srivastava  जो गया सब उसके ही खातिर , रो रहे-चिल्ला रहे।  जमीं पर रखी है मिट्टी , बोलते-बतिया रहे।   ...