month vise

Thursday, October 19, 2017

दीप का पर्व सबको , मुबारक यहाँ।

poem by Umesh chandra srivastava 

दीप का पर्व सबको ,
मुबारक यहाँ। 
सत्य की ज्योति ,
हरदम ही जलती रहे। 
सत्य ही है वही ,
सबका का हित जो करे। 
सत्य को खोलना ,
यहां मुश्किल बहुत। 
सत्य खिलता ,
सदा आवरण में सुखद। 
सत्य की बानगी ,
हर तरफ है इधर। 
राम बन को चले ,
माता झुंझला गयी। 
मात को तब वही ,
सत्य कहकर चले। 
वन में साधू-सन्यासी ,
ऋषि हैं बहुत ,
उनसे ज्ञानों का अर्जन करूंगा सदा। 
माता सुनकर प्रफुल्लित ,
हृदय मग्न हो ,
राम को वन गमन का ,
आशीष दिया। 
ऐसे कितने उदाहरण ,
पड़े हैं यहाँ ,
वक्त आने पे ,
'औ' खोल रखूंगा मैं। 



उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 


Thursday, September 14, 2017

हिंदी दिवस पर

poem by Umesh chandra srivastava 

                      (१)
हिंदी में बिंदी का महत्व जान लीजिये ,
सुन्दर सलोने शब्द को पहचान लीजिये। 
भाषा सुदृण है ज्ञान का अनमोल खज़ाना ,
ब्रह्माण्ड की भाषा बने यह ठान लीजिये। 

औरों की बात और है ,सम्मान सभी का ,
है प्रेम शब्द का विविध विस्तार यहाँ पे । 
हिंदी में शब्द ढेर हैं  अंग्रेजी में कहाँ ,
हिंदी हमारी माँ जननि , उत्थान कीजिये। (क्रमसः)




 उमेश चंद्र श्रीवास्तव- 
poem by Umesh chandra srivastava 

Saturday, September 2, 2017

प्रेम उपासना


                       (१ )
प्रेम उपासना ,प्रेम तपस्या ,प्रेम जगत व्यव्हार है ,
प्रेम बिना कुछ भी संभव नहीं ,प्रेम मानों का द्वार है।
प्रेम के चलते हम सब मिलते ,प्रेम परस्पर चलता है ,
मगर बाँवरे कुछ ऐसे हैं ,जिन्हें प्रेम यह खलता है।

                       (२ )
चंदा की चकोरी से कोई बात नहीं है ,
लगता है कई दिन से मुलाकात नहीं है।
वह रोज़ तो निश्चित है जब चाँद खिलेगा ,
तब चाँद स्वयं आके चकोरी से मिलेगा।





उमेश चंद्र श्रीवास्तव -

Tuesday, August 22, 2017

दो बिम्ब

poem by Umesh chandra srivastava
                 
                    (१)
आस्था का मंदिर बनवाने से बेहतर ,
आस्था का बीज बोया जाये।
समदर्शी बनो-भेद-भाव  त्याग ,
चलो प्रेम का फूल खिलाया जाये।
                   (२)
कभी अनुदान की बातें , कभी निष्प्राण सी घातें ,
समय का चक्र ऐसा है -मिले सब बात की बातें।
अनुग्रह कर रहे हैं जो-समझ लो स्वार्थ कोई है ,
भला बोलो इस दुनिया में कहाँ सौगात की बातें।




उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 

Friday, August 18, 2017

बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी - 4

poem by Umesh chandra srivastava

बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी ,
धरा का अँधेरा सभी मिट ही जाए।

इन्हें भी हो मालूम ये देखें ज़रा सा,
ये राजाओं का भी करम देख लें कुछ। 
ये ए. सी.  में बैठे बहुत बात करते ,
उन्हें खूब सराहें , मगर वहं न भी जाएँ। 

कहो इनसे वह भी संशोधन कराएं ,
नियम यह बनाएं-वो सरहद पे जाएँ। 
लिखो बात यह भी वो जनता जनार्दन से-
कहें जो करें अपनी निष्ठां दिखाएँ। 
नहीं मुख से भाषण सुनाएँ-सुनाएँ ,
अगर हों वतन के लिए -बात मानें। 
वो सरहद पे जाएँ ,वो सरहद पे जाएँ। 


उमेश चद्र श्रीवास्तव- 
poem by Umesh chandra srivastava 

Sunday, August 13, 2017

बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी-3

poem by Umesh chandra srivastava

बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी ,
धरा का अँधेरा सभी मिट ही जाए।

(गतांक से आगे )


पुरंदर बने हम यहां घूमते हैं ,
वहां अपने बेटे ही तन झोंकते हैं।
लिखो बात उनकी वतन के लिए जो ,
वतन पे मरे जो , वतन के लिए हों।

ये नेता , मिनिस्टर को भी सीख देदो ,
वतन के लिए वो भी सरहद पे जाएँ।
खुले मंच पे न ये गालें बजाएं ,
कहो हाँथ ले के संगीनें वहं जाएँ। (क्रमशः कल )






उमेश चन्द्र श्रीवास्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 

Friday, August 11, 2017

बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी-2

poem by Umesh chandra srivastava


बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी ,
धरा का अँधेरा सभी मिट ही जाए।

(गतांक से आगे )

पूरी उम्र उनने करी है हिफ़ाज़त ,
ये नेता मगर बात कुछ बोलते हैं।
कहो इनसे जाये 'औ' देखे वो सरहद ,
जहां पे सिपाही लड़े जा रहे हैं।

ख़ुशी में जो झूमे वतन प्रेमी सब जन ,
उन्हें भी कहो-अब संगीने उठायें।
नहीं ठोक ताली यहां बजबजायें ,
वो भी जाके थोड़ा ही बाजू लड़ायें।(क्रमशः कल )


उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 

Thursday, August 10, 2017

बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी

poem by  Umesh chandra srivastava 
 
बड़े कवि अगर हो ,लिखो बात ऐसी ,
धरा का अँधेरा सभी मिट ही जाए। 
वो फूलों की बातें , निगाहों की शोखी ,
मगन हो सजन के लिए लिख रहे हो। 

तो छोड़ो बताऊं लिखो तुम वतन पे ,
जो सैनिक खड़े हैं वहां सीना तने। 
मग्न होके उनका ही धीरज बढ़ाओ ,
वतन के लिए जो ,वतन के हैं प्रेमी।   (क्रमशः  कल )





उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by  Umesh chandra srivastava 

Tuesday, August 8, 2017

प्रेम का घनत्व कुछ ज्यादा है

poem by Umesh chandra srivastava

                           -१-
प्रेम का घनत्व कुछ ज्यादा है ,
इसीलिए सब कुछ आधा-आधा है।
वरना कुछ जनों की दुश्वारियां देखिये ,
बाप-बेटे में कुछ भी नहीं साझा है।

                          - २ -
वो रोज़ आते हैं सुबह से शाम तलक रहने के वास्ते ,
रात होते ही चले जाते हैं ,सब बंद किये।
अब तो ज़माना है देर रात तलक , लोग करते हैं ,
सारी तिज़ारत ,छल-प्रपंच ,दंद-फंद अपने लिए।




उमेश चंद्र श्रीवस्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 

Sunday, August 6, 2017

मुरलीधर को यह राखी बहन बांधती

poem by Umesh chandra srivastava 

मुरलीधर को यह राखी बहन बांधती ,
अब हमारी तुम रक्षा करो भाई तुम। 
हंस के बोले कन्हैया-क्या चहिये तुम्हें ?
हंस पड़ी तब सुभद्रा मगन हो गयी। 
भाई से बस बहन की ये चाहत सुनो ,
रक्षा बंधन अमर हो बहन-भाई का।  
युग-युगों से यह बंधन बढ़े रात-दिन ,
भाई खुश-खुश रहे बहन भी हो मगन। 
ये लगन-ये दुलारा सा प्रेम प्रहर ,
हर समय गूंजे बहना का दिल हो सघन। 
भाई-बहनों का त्यौहार फलता रहे ,
प्रेम की गूँज से ये जहां हो मगन।  




उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 






Saturday, August 5, 2017

ये ईंगला ,ये पिंगला , शुषुम्ना ये नाड़ी

poem by Umesh chandra srivastava 

                        (१)
ये ईंगला ,ये पिंगला , सुषुम्ना ये नाड़ी ,
सभी कुछ तनों में बने तुम अनाड़ी। 
कहाँ खोजते फिरते उसको भरम में ,
तुम्हीं हो अगोचर तुम्हीं हो खिलाड़ी। 
                        (२ )
ये कवि का मंच है कविता दिवस हम सब मनाएंगे ,
उन्हें हम याद करके छंद 'औ' कुछ गीत गाएंगे। 
लिखे हैं गीत उनने कुछ सलोने काव्य में देखो ,
बड़ा ही मार्मिक चित्रण 'औ' सुन्दर बोल पाएंगे। 



उमेश चंद्र श्रीवास्तव -
poem by Umesh chandra srivastava 

दीप का पर्व सबको , मुबारक यहाँ।

poem by Umesh chandra srivastava  दीप का पर्व सबको , मुबारक यहाँ।  सत्य की ज्योति , हरदम ही जलती रहे।  सत्य ही है वही , सबका...